आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

गुरुवार, 13 अप्रैल 2017

गमछा के गुन

गमछा के गुन

गुन गमछा के जान लौ, ढाँकै पोंछै देह।
बात इहू सब मान लौ, रखथें नेता नेह।।
रखथें नेता नेह, चिन्हारी गमछा डारे।
माँगे बर जी वोट, फिरैं उन हाथ पसारे।।
होंय न नेता आज, देख लौ बिन चमचा के ।

ढाँकै पोछै देह जान लौ गुन गमछा के।।

जय जोहार....
सूर्यकांत गुप्ता
सिंधिया नगर दुर्ग

चाय-कॉफी



चाय-कॉफी 

कॉफी सँग सँग चाय के , चलन चलै पुरजोर।
चिटिकुन फुरती लाय के, इही आसरा मोर।।
इही आसरा मोर, रहय कैफीन निकोटिन।
सुस्ती भागै थोर, मँहूँ अजमाएँव थोकिन।।
गति अति के नादान, जान लौ मिलै न माफी।
कहना लौ सब मान, सम्हल के पीयौ कॉफी।।

जय जोहार...
सिधिया नगर दुर्ग...
(चित्र गूगल से साभार)

दारू




दारू 
(1)
पीहीं दारू चाय कस, जब पाहीं तब जान।
पी लेहीं कँहु अकतहा, गिरहीं फेर उतान।।
गिरहीं फेर उतान, जघा के कहाँ ठिकाना।
बुढ़वा होय जवान, जान लौ मंद दिवाना।। 
मारत हे सरकार, आदमी कइसे जीहीं।
आदत से लाचार, चाय कस दारू पीहीं।।
(2)
बेंचँय बेचावय बेचात हवै मरे जियो, 
जघा जघा दारू देख लव खुले आम जी ।
बंद होय कारोबार मंद के कहत माई, 
करत विरोध दिन रात सुबह शाम जी।।
बेचे बर सरकार खुदे हवै तइयार, 
एमा अब कइसे कब कसही लगाम जी।
पीहीं अउ पियाहीं घलो होली के तिहार मा गा,
परय चुकाय बर चाहे कतको दाम जी।।


जय जोहार भाई..
सिंधिया नगर दुर्ग


मतदाता का मोल

मतदाता का मोल
मतदाता का मोल तो, दारू कंबल नोट।
इतने में ही बिक रहे, बेशकीमती वोट।
बेशकीमती वोट,आज की बात नही है।
संसद ऐसी चोट, आदि से खात रही है।।
रहें न आज सपूत, कोइ भारत माता का।
दारू कंबल नोट मोल तो मतदाता का।।

__/\__
जय जोहार ...
सिंधिया नगर दुर्ग

रविवार, 4 सितंबर 2016

विदाई(1)

प्रभुजी की माया, पाते काया, मानुस के हम, रूप धरे।
कर वक्त न जाया, अवसर पाया, परहित के कुछ, काज सरे।।
जब क्षण वह आता, प्रान गँवाता, देत विदाई, रोय सभी।
मरता दुष्कर्मी, दुष्ट अधर्मी, दुख सचमुच ना होय कभी।।

विदाई (2)

हे जगत विधाता, हे जग त्राता, रिश्ता नाता, तँही गढ़े।
सुख दुख सिखलाये, प्यार जगाये, सँग मा गुस्सा घलो मढ़े।।
घर घर के किस्सा, सबके हिस्सा, सुख दुख दूनो संग चलै।
ये घड़ी विदाई, बड़ दुखदाई, पीर जुदाई खूब खलै।।

जय जोहार।…॥
सूर्यकांत गुप्ता
सिंधिया नगर दुर्ग (छ.ग.)

पोरा के गाड़ा गाड़ा बधाई


पोरा के गाड़ा गाड़ा बधाई

कइसे मानन हमू तिहार।
दउड़ावन बइला ला यार।।

बइला चुलहा चकला जान।
बरतन भाँड़ा सबो मितान।।

माटी के बरतन सब लान।
नोनी बाबू खेलन जान।।

हर तिहार के महिमा ताय।
खेल खेल मा देत बताय।।

जीये बर सब लागै चीज।
खेलत खेलत सीख तमीज।।

आज ठेठरी डटके खाव।
पोरा सुग्घर परब मनाव।।

जय जोहार……

सूर्यकांत गुप्ता..
सिंधिया नगर दुर्ग(छ्त्तीसगढ़)

दौलत

दौलत

चाह दौलत की हमें भरपूर है
राह कैसी भी रहे मंज़ूर है
ग़म नहीं हक दूसरों का छिन रहा
आज तो इंसानियत मज़बूर है

जय जोहार……

सूर्यकांत गुप्ता..
सिंधिया नगर दुर्ग(छ्त्तीसगढ़)